Thursday, December 24, 2020

शिक्षामित्र मानदेय भुगतान (जिला योजना) हेतु वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिये धनराशि का आवंटन।

 शिक्षामित्र मानदेय भुगतान (जिला योजना) हेतु वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिये धनराशि का आवंटन।

2

3
4

5

शिक्षामित्र मानदेय भुगतान (जिला योजना) हेतु वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिये धनराशि का आवंटन।

Sunday, December 20, 2020

शिक्षामित्रों का बहुत जल्द भविष्य होने जा रहा उज्ज्वल, शिक्षामित्र की बनेगी अस्थाई सेवा नियमावली: सुने जितेंद्र शाही जी का यह ऑडियो shikshamitra samayojan latest news hindi

शिक्षामित्रों का बहुत जल्द भविष्य होने जा रहा उज्ज्वल, शिक्षामित्र की बनेगी अस्थाई सेवा नियमावली: सुने जितेंद्र शाही जी का यह ऑडियो शिक्षामित्रों का बहुत जल्द भविष्य होने जा रहा उज्ज्वल, शिक्षामित्र की बनेगी अस्थाई सेवा नियमावली: सुने जितेंद्र शाही जी का यह ऑडियो shikshamitra samayojan latest news hindi


हमारे संगठन आदर्श समायोजित शिक्षक/शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष माननीय जितेंद्र शाही जी द्वारा वर्तमान परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए माननीय कानून मंत्री, श्री बृजेश पाठक जी, तथा नवनिर्वाचित एमएलसी श्री इंजीनियर अवनीश सिंह जी, तथा अन्य मा० मंत्री गण, मा० सांसद गण, मा० विधायक गण व अन्य लोगों से मुलाकात करने के बाद, तथा श्रीमान महानिदेशक महोदय से मिलने के उपरांत आज दिनांक 19 दिसंबर 2020 को जारी किया गया ऑडियो आप सभी के समक्ष प्रस्तुत है।





कृपया ऑडियो सुनें और अवलोकन करें।

उक्त मुलाकात से स्पष्ट हुआ है कि आने वाले अगले सप्ताह में शिक्षा मित्रों से संबंधित कुछ समस्याओं का निदान होने की पूरी संभावना है, तथा शेष समस्याओं का समाधान भी नए वर्ष में होने की प्रबल संभावना बन गई है।

इसलिए आप समस्त साथी निश्चिंत रहें और संयम से काम ले, आने वाला नववर्ष शिक्षामित्रों के जीवन में खुशियां लेकर आएगा।


आपका,

सय्यद जावेद मियाँ,

प्रांतीय प्रवक्ता,

आदर्श समायोजित शिक्षक/शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन उत्तर प्रदेश।


Friday, December 18, 2020

 शिक्षामित्रों की किस्मत का ताला जल्दी ही खुलने वाला है   मानदेय में भारी बढ़ोतरी की मांग हुई पूरी shikshamitra maandey news

 शिक्षामित्रों की किस्मत का ताला जल्दी ही खुलने वाला है 

मानदेय में भारी बढ़ोतरी की मांग हुई पूरी shikshamitra maandey news



69000 सहायक अध्यापक भर्ती में दूसरी सूची में चयनित 36590 शिक्षकों में नियुक्ति पत्र पाए शिक्षकों को अब बेसिक शिक्षा अधिकारी की ओर से विद्यालय आवंटन का इंतजार है। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद को शासन का आदेश मिलते हो विद्यालय का आवंटन किया जाएगा

Wednesday, December 16, 2020

निष्ठा प्रशिक्षण के माड्यूल 13, 14 और 15 की लिंक एक साथ, क्लिक कर जॉइन करें दीक्षा एप पर प्रशिक्षण, 31 दिसम्बर है अंतिम तिथि। Nishtha App Training UP

 निष्ठा प्रशिक्षण के माड्यूल 13, 14 और 15 की लिंक एक साथ, क्लिक कर जॉइन करें दीक्षा एप पर प्रशिक्षण, 31 दिसम्बर है अंतिम तिथि




■ निष्ठा प्रशिक्षण के  माड्यूल 13, 14 और 15 की लिंक एक साथ।




■  क्लिक करें -
👉 माड्यूल 13 (16 से 31 दिसम्बर 2020 तक)


👉 माड्यूल 14 (18 से 30 दिसम्बर 2020)


 👉 माड्यूल 15 (18 से 31 दिसम्बर 2020)

Sunday, December 13, 2020

डिप्टी सीएम की रिपोर्ट पर सभी टेट पास व बैध स्नातक प्रशिक्षित शिक्षामित्रों का भविष्य अलग अलग कैटागिरी में नवीन सत्र 16 जून से सुरक्षित होने जा रहा है। shikshamitra commety report news 2020

 डिप्टी सीएम की रिपोर्ट पर सभी टेट पास व बैध स्नातक प्रशिक्षित शिक्षामित्रों का भविष्य अलग अलग कैटागिरी में नवीन सत्र 16 जून से सुरक्षित होने जा रहा है।


कमेटी की रिपोर्ट में rte एक्ट 2009 व नई शिक्षा नीति के प्रावधानों का पूरा ध्यान रखते हुए नीति बनाई जा रही है।

बेसिक शिक्षा नियमावली में संशोधन कर शिक्षा मित्रों के लिए एक नया पद सृजित करने की तैयारी है। मेहनताना के रूप में 25000/33000 रुपए 12 माह 62 बर्ष 3% प्रति सत्र मंहगाई की बढ़ोतरी के साथ मिलेगा। बाकी समायोजन बहाली, वेतनमान एरियर सहित भूल जाओ, फिलहाल जो नीति स्पष्ट होगी, उसपर किसी कोर्ट कचहरी का कोई असर नहीं पड़ेगा। अगले सप्ताह डिप्टी सीएम अपनी रिपोर्ट बेसिक शिक्षा मंत्री को सौपेगे, उसके बाद बिभागीय प्रक्रिया शुरू होगी। फिर कैबिनेट की मंजूरी के बाद शासनकाल होकर, जिले पर कार्यवाही शुरू होगी। मुख्यमंत्री जी स्वयं अपने हाथों से भविष्य पत्र वितरित करेंगे। और शपथ दिलायेंगे, कि अब राजनैतिक महत्वाकांक्षा के लोगों से दूरी बनाकर नौनिहालों के उज्जवल भविष्य हेतु अपना योगदान देगे।

हृदयेश दुबे🙏

Friday, December 11, 2020

कुछ नंबरों की कमी से अगर चयन से रह गए बाहर तो उन शिक्षामित्रों को सरकार ने दिया मौका shikshamitra samayojan latest news hindi


69000 शिक्षक भर्ती: चयन के बाद भी खाली रहेंगी सीटें, चयन से बाहर शिक्षामित्रों को मिल सकता मौका


बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक अध्यापक चयन दो चरणों में भी पूरा नहीं हो सकेगा। चयनितों को बड़ी संख्या में नियुक्ति पद देने के बाद भी हजारों पद खाली रह जाएंगे। इसकी बानगी भर्ती के पहले चरण में ही मिल चुकी है, जब कम पद होने के बाद भी करीब तीन हजार सीटें अभी खाली हैं। दूसरे चरण में भी अभिलेख भिन्न वालों को नियुक्ति पत्र नहीं मिलेंगे। इससे नियुक्ति का तीसरा चरण भी संभावित है, जिसमें खाली पद भरे जा सकते हैं।




परिषदीय स्कूलों की भर्ती की शुरुआत ही एक जून को रिक्त पदों से हुई। उस समय 69000 पदों के सापेक्ष 67867 चयनित ही अर्ह मिले थे। शीर्ष कोर्ट के आदेश पर 31661 पदों के लिए 12 अक्टूबर को सूची जारी हुई, तब सिर्फ 31277 पदों पर चयन किया गया, क्योंकि शेष 384 पदों पर एसटी के चयनित उपलब्ध नहीं थे। पहले चरण की काउंसिलिंग में 28320 को ही नियुक्ति पत्र निर्गत हुआ है, करीब एक हजार मामले अभी विचाराधीन हैं। वहीं, तीन हजार पद खाली रह गए हैं।


अब दूसरे चरण की काउंसिलिंग बुधवार से होगी, इसमें कुल 37339 पदों में से 749 के लिए चयनित नहीं मिले इसलिए 36590 पदों की अनंतिम सूची जारी हुई। इसमें भी परिषद का निर्देश है कि जिन चयनितों के मूल अभिलेख और एनआइसी की ओर से जारी सूचनाओं में भिन्नता हों वह प्रकरण मुख्यालय को भेजे जाएं। तय है कि इसमें भी करीब तीन से चार हजार चयनित नियुक्ति पत्र नहीं पा सकेंगे। ये वही अभ्यर्थी जो लंबे समय तक परिषद मुख्यालय के सामने आवेदन के समय के रिकार्ड में संशोधन करने की मांग कर रहे थे, परिषद ने मौका नहीं दिया और कोर्ट भी कुछ को छोड़कर अधिकांश की याचिका खारिज कर चुका है। अब परिषद को ही अंतिम निर्णय करना होगा।


चयन से बाहर शिक्षामित्रों को मिल सकता मौका


भर्ती में दर्जनों ऐसे शिक्षामित्र हैं जिन्होंने आवेदन में शिक्षामित्र का जिक्र नहीं किया और वे अनंतिम सूची से बाहर हो गए। अब रिक्त पदों पर उन्हें मौका दिया जा सकता है। दोनों चरणों के चयनितों का निर्णय एक साथ होने के आसार हैं।


’>> पहले चरण में ही करीब तीन हजार से अधिक पदों पर नियुक्ति का इंतजार


’ दूसरे चरण में भी अभिलेख भिन्नता वालों को नियुक्ति पत्र नहीं मिलेगा

Thursday, December 3, 2020

69000 शिक्षक भर्ती: चयन के बाद भी शिक्षामित्रों को मिलेगा मौका, चयन से बाहर शिक्षामित्रों को मौका shikshamitra samayojan news

 69000 शिक्षक भर्ती: चयन के बाद भी खाली रहेंगी सीटें, चयन से बाहर शिक्षामित्रों को मिल सकता मौका


● पहले चरण में ही करीब तीन हजार से अधिक पदों पर नियुक्ति का इंतजार


● दूसरे चरण में भी अभिलेख भिन्नता वालों को नियुक्ति पत्र नहीं मिलेगा 

बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक अध्यापक चयन दो चरणों में भी पूरा नहीं हो सकेगा। चयनितों को बड़ी संख्या में नियुक्ति पद देने के बाद भी हजारों पद खाली रह जाएंगे। इसकी बानगी भर्ती के पहले चरण में ही मिल चुकी है, जब कम पद होने के बाद भी करीब तीन हजार सीटें अभी खाली हैं। दूसरे चरण में भी अभिलेख भिन्न वालों को नियुक्ति पत्र नहीं मिलेंगे। इससे नियुक्ति का तीसरा चरण भी संभावित है, जिसमें खाली पद भरे जा सकते हैं।

परिषदीय स्कूलों की भर्ती की शुरुआत ही एक जून को रिक्त पदों से हुई। उस समय 69000 पदों के सापेक्ष 67867 चयनित ही अर्ह मिले थे। शीर्ष कोर्ट के आदेश पर 31661 पदों के लिए 12 अक्टूबर को सूची जारी हुई, तब सिर्फ 31277 पदों पर चयन किया गया, क्योंकि शेष 384 पदों पर एसटी के चयनित उपलब्ध नहीं थे। पहले चरण की काउंसिलिंग में 28320 को ही नियुक्ति पत्र निर्गत हुआ है, करीब एक हजार मामले अभी विचाराधीन हैं। वहीं, तीन हजार पद खाली रह गए हैं।

अब दूसरे चरण की काउंसिलिंग बुधवार से होगी, इसमें कुल 37339 पदों में से 749 के लिए चयनित नहीं मिले इसलिए 36590 पदों की अनंतिम सूची जारी हुई। इसमें भी परिषद का निर्देश है कि जिन चयनितों के मूल अभिलेख और एनआइसी की ओर से जारी सूचनाओं में भिन्नता हों वह प्रकरण मुख्यालय को भेजे जाएं। तय है कि इसमें भी करीब तीन से चार हजार चयनित नियुक्ति पत्र नहीं पा सकेंगे। ये वही अभ्यर्थी जो लंबे समय तक परिषद मुख्यालय के सामने आवेदन के समय के रिकार्ड में संशोधन करने की मांग कर रहे थे, परिषद ने मौका नहीं दिया और कोर्ट भी कुछ को छोड़कर अधिकांश की याचिका खारिज कर चुका है। अब परिषद को ही अंतिम निर्णय करना होगा।

चयन से बाहर शिक्षामित्रों को मिल सकता मौका

भर्ती में दर्जनों ऐसे शिक्षामित्र हैं जिन्होंने आवेदन में शिक्षामित्र का जिक्र नहीं किया और वे अनंतिम सूची से बाहर हो गए। अब रिक्त पदों पर उन्हें मौका दिया जा सकता है। दोनों चरणों के चयनितों का निर्णय एक साथ होने के आसार हैं।

परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक अध्यापक भर्ती के तहत 29 फीसदी सीटों पर सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों का चयन हुआ है। सबसे अधिक 45.80 प्रतिशत सीटों पर अन्य पिछड़ा वर्ग ( ओबीसी ) 23.49 प्रतिशत सीटों पर अनुसूचित जाति, जबकि अनुसूचित जनजाति के मात्र .36 (दशमलव तीन छह प्रतिशत) अभ्यर्थियों का सेलेक्शन हुआ है। यानि कुल 69.64 या 70 प्रतिशत अभ्यर्थी आरक्षित जबकि 28.70 फीसदी सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी हैं। 






बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को दिए जवाब में ये तथ्य सामने आए हैं। इस शिक्षक भर्ती में आरक्षण की अनदेखी मामले की सुनवाई आयोग के नई दिल्‍ली कार्यालय में 4 दिसंबर को होनी है। 69000 पदों में 34500 पद अनारक्षित वर्ग के लिए निर्धारित थे। आयोग में दाखिल जवाब के अनुसार सामान्य वर्ग के 19805,ओबीसी के 31605, एससी के 16212 जबकि एसटी वर्ग के मात्र 245 अभ्यर्थियों का चयन हुआ है। 



एसटी वर्ग के पर्याप्त अभ्यर्थी नहीं मिलने के कारण इस कैटेगरी के लिए आरक्षित पदों में से 1133 खाली रह गए। बड़ी संख्या में ओबीसी और एससी वर्ग के अभ्यर्थियों ने हाई मेरिट हासिल की जिससे उनका चयन भी नियमानुसार अनारक्षित वर्ग में हुआ।



68500 की पहली लिस्ट में 62% थे आरक्षित वर्ग के 

इससे पहले 2018 में शुरू हुई 68500 सहायक अध्यापक भर्ती की पहली लिस्ट में 62 प्रतिशत अभ्यर्थी आरक्षित वर्ग के थे। 13 अगस्त को घोषित परिणाम में 41566 अभ्यर्थी सफल हुए थे। तत्कालीन अपर मुख्य सचिव डॉ . प्रभात कुमार ने अपने ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी थी कि 41566 अभ्यर्थियों में से 15772 (37 .95 या 38 प्रतिशत) सामान्य, 19168 (46 .12 या 46 प्रतिशत) ओबीसी, 6616 (15.92 या 16 फीसदी) एससी/एसटी वर्ग के अभ्यर्थी थे।