Saturday, October 31, 2020

31277 शिक्षक भर्ती:- ग्रेजुएशन शिक्षामित्र रहते किया, नहीं मिलेगा स्कूल 31277 shikshamitra latest news

 69 हजार शिक्षक भर्ती के तहत जनपद में नियुक्ति पत्र पा चुके 128 शिक्षकों में से तीन को स्कूलों पर तैनाती नहीं मिलेगी। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि इन लोगों ने शिक्षामित्र रहते हुए रेगुलर ग्रेजुएशन की पढ़ाई की है, जो गलत है


।जनपद में कुल 142 शिक्षकों का चयन हुआ था। सभी को काउंसलिंग के लिए बुलाया गया लेकिन 12 अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे। कुल 130 ही काउंसलिंग में शामिल हुए। लेकिन दो अभ्यर्थियों के अभिलेख में गड़बड़ी को देखते हुए बीएसए सत्येन्द्र कुमार सिंह काउंसलिंग से रोक दिया। सरकार के निर्देशानुसार कार्यक्रम आयोजित कर सभी 128 अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र प्रदान कर दिया गया। नियुक्ति देने के बाद अभिलेखों की शुरू हुई। जांच के दौरान तीन अभ्यर्थी ऐसे मिले जो शिक्षामित्र के रूप में तैनात रहे। लेकिन बिना किसी भी तरह का अवकाश लिए सभी ने ग्रेजुएशन की पढ़ाई की। इस कारण बीएसए ने इन्हें विद्यालय पर तैनाती देने से रोक दिया है।

Thursday, October 29, 2020

यूपी में सजेंगे प्री प्राइमरी स्कूल शिक्षामित्र होंगे नियुक्त जल्द होगी घोषणा shikshamitra today latest news pre primary
यूपी : आंगनबाड़ियां प्ले ग्रुप की तर्ज पर सजेंगी, प्री-प्राइमरी के लिए किया जाएगा तैयार

प्रदेश की आंगनबाड़यों को प्ले ग्रुप की तर्ज पर सजाया जाएगा। यहां वे सारे सामान मौजूद रहेंगे जो बच्चों को आकर्षित करेंगे। यहां प्ले स्कूल की तरह रंगबिरंगे ब्लॉक, फ्लैश कार्ड, चार्ट, प्लास्टिक के अक्षर आदि मौजूद रहेंगे।  

प्रदेश के 1.45 लाख प्री स्कूल किट खरीदी जा रही है। हर किट में प्लास्टिक ब्लॉक, पहेलियों (पजल)के चार सेट, स्लेट, रंगीन चॉक, अक्षरों के चार्ट, 15 क्रेयान रंगों के 5 सेट, दो कैंचियां, गोंद, प्लास्टिक के अक्षर समेत अन्य कई चीजें इसका हिस्सा होंगी। इसे रखने के लिए एक बक्सा भी इस किट का हिस्सा होगा। इसके पीछे मकसद यह है कि छोटे बच्चे यहां बैठने के लिए प्रेरित हों और उनकी दिलचस्पी पढ़ने में बढ़े। खेल खेल में पढ़ाई का खाका भी खींचा जा रहा है।

प्रदेश की आंगनबाड़यों में नए सत्रसे प्री प्राइमरी की पढ़ाई शुरू होनी है । इसके लिए बेसिक शिक्षा विभाग ने आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित करने के लिए कार्यक्रम जारी कर दिया है । आप यह खबर प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं। फरवरी तक सभी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित किया जाना है। वहीं यहां का पाठ्यक्रम भी एससीईआरटी ने तय कर दिया है जिसे छपने भेजा गया है । आंगनबाड़ी को 3 से 6 वर्ष तक के बच्चों को प्री प्राइमरी की पढ़ाई के लिए तैयार किया जा रहा है।

Monday, October 26, 2020

सरकार को अब शिक्षामित्रों के प्रति गंभीर होना ही पड़ेगा shikshamitra sad news today

सरकार को अब शिक्षामित्रों के प्रति गंभीर होना ही पड़ेगा shikshamitra sad news today


 दिनांक 25 अक्टूबर 2020 को शिक्षामित्र पूजा यादव का निधन हो गया शिक्षामित्र पूजा यादव जनपद उन्नाव के विकास खण्ड-सरोसी के प्राथमिक विधालय जगदीशपुर शिक्षामित्र पद पर कार्यरत थी ।

2006 से शिक्षा मित्र के रुप में थी कार्यरत-शिक्षामित्र पूजा यादव वर्ष 2006 में शिक्षामित्र के रूप में चयनित हुई थी, पूजा यादव का ग्राम पंचायत में सबसेे ज्यादा हाई मेरिट होने के कारण शिक्षामित्र के रूप में चयन हुआ था।

2015 में बनी थी शिक्षामित्र से सहायक अध्यापक-शिक्षामित्र पूजा यादव 2015 में बीटीसी की परीक्षा पास करने के बाद अखिलेश सरकार के द्वारा सहायक अध्यापक के पद पर समायोजित हो गई थीं। 

कई दिनों से थी मानसिक अवसाद व तनाव में- 25 जुलाई 2017 को जब सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया तब से ही शिक्षामित्र पूजा यादव मानसिक तनाव से ग्रसित हो गई थी और आज सुबह तनाव के चलते हार्ट अटैक पड़ने के कारण उनकी असमय ही मृत्यु हो गई।

Saturday, October 24, 2020

नई शिक्षा नीति के चलते प्री प्राइमरी स्कूलों में चयन की प्रक्रिया शुरू करने का आदेश शिक्षामित्रों को मिला मौका shikshamitra pre primary school news

 

नई शिक्षा नीति के चलते प्री प्राइमरी स्कूलों में चयन की प्रक्रिया शुरू करने का आदेश शिक्षामित्रों को मिला मौका shikshamitra pre primary school news

प्री प्राइमरी स्कूल क्या होंगे

नई शिक्षा नीति के तहत प्री-प्राइमरी कक्षाओं को विनियमित करने की तैयारी शुरू हो गई है। इसके तहत तीन से छह साल के बच्चों को प्री-प्राइमरी कक्षाओं में शुरुआती पढ़ाई कराई जाएगी। यह अवसर स्कूलों के साथ आंगनबाड़ियों में भी प्रदान किए जाएंगे। इसके लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को प्री-प्राइमरी शिक्षक की भूमिका निभानी होगी। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद

यह होंगे प्री प्राइमरी में पढ़ाने के नियम

(एनसीटीई) ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की शैक्षिक योग्यता के निर्धारण पर विचार-विमर्श की प्रक्रिया शुरू करदी है। एनसीटीई की 29 सितंबर को हुई बैठक में जिसके मिनट्स पिछले सप्ताह मंजूर हुए हैं, उसमें इस विषय पर चर्चा हुई ।

नियम यह भी होंगे

एनसीटीई को यह जिम्मा सौंपा गया है कि वह आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए न्यूनतमशैक्षिक योग्यता का निर्धारण करे तथा प्री-प्राइमरी बच्चों की जरूरत के अनुसार एक प्रशिक्षण कोर्स तैयार करे जिसका प्रशिक्षण आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को दिया जाएगा। आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों की देखभाल होती है। उनके पोषण आदि पर ध्यान दिया जाता है। इसी में उन्हें आवश्यक देखभाल के साथ-साथ आरंभिक शिक्षा प्रदान करने की भी योजना है। चूंकि ग्रामीण क्षेत्रों में आंगनबाड़ी का अच्छा नेटवर्क है इसलिए इनका बेहतर इस्तेमाल इस कार्य के लिए किया जाएगा।

 बता दें कि देश में 13.77 लाख आंगनबाड़ी केंद्र कार्य कर रहे हैं। एनसीटीई की बैठक में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए शैक्षिक योग्यता को लेकर चर्चा हुई और यह निर्णय लिया गया कि सभी सदस्य इस बार में और फीडबैक देंगे, ताकि इस पर विस्तृत नियमावली तैयार की जा सके। माना जा रहा है कि अगली बैठकों में इस मुद्दे पर अंतिम निर्णय लिया जा सकता है। अभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता पांचवीं पास है।

भर्ती को लेकर अफरा तफरी

अभी कक्षाएं विनियमित नहीं

अभी प्री प्राइमरी कक्षाएं शहरी स्कूलों में ही संचालित होती हैं, लेकिन वह किसी नियम के तहत विनियमित नहीं हैं। नई शिक्षा नीति में उन्हें विनियमित करने की बात कही गई है। इसलिए यह भी हो सकता है कि भविष्य में उन्हें शिक्षा के अधिकार कानून के दायरे में लाया जाए। अभी यह काननू छह से 14 साल के बच्चों पर लागू होता है, लेकिन नई नीति में प्री-प्रामइरी को भी स्कूल शिक्षा का हिस्सा बनाने का ऐलान किया है।


Wednesday, October 21, 2020

उत्तर प्रदेश शिक्षामित्र समाचार शिक्षामित्रों के समान कार्य समान वेतन पर हुई बड़ी बहस जल्द होगा फैसला shikshamitra samayojan latest news

 हमारी भी सुनिए,हुजूर -ए-आला

🙏🏵️🏵️🏵️🏵️👁️‍🗨️🏵️🏵️🏵️🏵️🙏

*महानिदेशक महोदय को ये पता नहीं हैं या जानबूझकर शिक्षामित्रों की जान लेने पर तुले हैं। एक तरफ नियमित शिक्षक हैं जो पचास से लेकर अस्सी हजार तक वेतन पाते हैं, और दूसरी तरफ शिक्षामित्र और अनुदेशक जो नाममात्र का मानदेय वो भी कभी समय पर नहीं। और ये रोज एक नया ऐप डाउन लोड करने का फ़रमान, रोजघंटों की आनलाइन ट्रेनिंग के आर्डर क्या सोचकर जारी करते हैं?*

 

*(खाओ पियो घर से, मुहब्बत करो हमसे)*

*अब कोई ARP ,SRG ये बताये शिक्षामित्र कहाँ से इतनी उच्चक्षमता वाला मोबाइल लाये जिसमें दुनियाभर के ऐप डाउनलोड हो सकें और चार-चार घंटे ऑनलाइन रहने की बैटरी क्षमता हो, और सबसे बड़ी बात मोबाइल में रिचार्ज कराने की।। हम शिक्षामित्र जैसे-तैसे जुगाड़ करके अपना और अपने बच्चों का पेट काटकर कामचलाऊ फोन रख रहे उससे ये तमाशा नहीं हो सकता। अगर महानिदेशक को इतना ही जुनून है तो पहले एक जैसी सुविधाएं प्रदान करें। फिर एक से यानि समान आर्डर जारी करें।*

   *अंत में अपने उन उत्साही साथियों से भी एक बात कहनी है कि सब की स्थिति एक सी नहीं है तो आप लोग भी आगे-आगे बड़ी अम्मा न बना करें, कभी उन साथियों के बारे में भी सोच लिया करें जिनकी दुनिया केवल दस हजार मानदेय पर ही निर्भर है।।* 

 

✒️ * शिक्षामित्र की कलम से*....💉

Monday, October 19, 2020

शिक्षामित्रों के लिए बड़ी खबर 1.24 लाख केस सम्बन्धित साथ ही अखिलेश सरकार का वादा shikshamitra samayojan latest news

 नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि यदि न्यायालय में दस वर्षों तक कार्य देखने वाला वकील जज बन सकता है तो बीस से पच्चीस वर्षों तक शिक्षण कार्य करने वाला शिक्षामित्र शिक्षक क्यों नहीं बन सकता। अखिलेश की सरकार आएगी तो शिक्षा मित्रों को फिर से शिक्षक बनाया जायेगा।    

 

रविवार को भदौरा में कामाख्या विद्यापीठ इंटर कॉलेज सेवराई में 28वें वार्षिकोत्सवएवं स्थापना दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए रामगोविंद ने कहा कि केंद्र सरकार हमेशा शिक्षा नीति में बदलाव करती है।  अपने हक के लिए लड़ रहे युवाओं से मजाक किया जा रहा है। उन पर लाठी चलाई जा रही है। 


जब भी कर्मचारियों ने अपने हक की मांग की उन्हें केवल लाठी मिली। चाहे वह शिक्षामित्र हों, रोजगार सेवक हों या वाराणसी की बेटियां हों।  

 

किसानों की कर्ज माफी के नाम पर अन्न दाताओं से बहुत बड़ा मजाक किया गया। शिक्षामित्रों से झूठ बोला जा रहा है। अखिलेश की सरकार आने पर शिक्षामित्रों को फिर से शिक्षक बनाया जाएगा।

Saturday, October 17, 2020

सीएम योगी ने उठाया शिक्षामित्रों के लिए अहम कदम बोले जो हमने कहा था वो पूरा हुआ shikshamitra samayojan latest news

सीएम योगी ने उठाया शिक्षामित्रों के लिए अहम कदम बोले जो हमने कहा था वो पूरा हुआ shikshamitra samayojan latest news



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को पांच कालिदास मार्ग स्थित सरकारी आवास पर आयोजित कार्यक्रम में पांच नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र देकर नियुक्ति पत्र वितरण कार्यकम की शुरुआत की। कार्यक्रम को ऑनलाइन संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नवनियुक्त 31277 शिक्षकों में 6675 शिक्षामित्र भी हैं। ये उनकी क्षमता का प्रमाण है जबकि हमसे पहले की सरकारों ने उनकी क्षमता का पूरा इस्तेमाल न कर शार्टकट अपनाया। हमारे लिए खुशी की बात है कि शिक्षामित्रों को शिक्षक बनने का मौका मिला। 

कुछ लोगों ने भर्ती प्रक्रिया बाधित की

कार्यक्रम को उन्होंने ऑनलाइन संबोधन देते हुए कहा कि इस शिक्षक भर्ती में नवंबर 2019 तक नियुक्ति पत्र देने की तैयारी में थे लेकिन जो लोग नहीं चाहते थे कि शिक्षा का उन्नयन हो और उत्तर प्रदेश की बुनियादी शिक्षा आगे बढ़े, उन्होंने इसे बाधित करने का प्रयास किया। अब भी मामला सुप्रीम कोर्ट में है। हम मजबूत पैरवी करेंगे और शेष अभ्यर्थियों को जल्द नियुक्ति पत्र देंगे। 

शिक्षामित्रों को मिला मेहनत का फल

उन्होंने कहा कि मैं लगातार शिक्षामित्रों से कहता था कि आप मेहनत कीजिए, धैर्य रखिए , हम आपको अवसर देंगे। 31277 नवनियुक्त शिक्षकों में 6675 शिक्षामित्र का होना गौरव की बात है। पिछली सरकारों ने शार्टकट का रास्ता अपनाया। कोर्ट ने इसे खारिज किया लेकिन हमने कहा कि इन्हें भारांक देकर नियुक्ति का प्रयास करेंगे। इनसे चंदा लेकर इन्हें भटकाने की भी कोशिशें हुईं। हमने तीन सालों तक गालियां भी सुनीं, लेकिन याद रखें। योग्यता का कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने कहा कि इसमें आरक्षण के मानकों का पालन किया गया है। 8513 ओबीसी, 6615 एससी और 216 एसटी के अभ्यर्थियों का चयन हुआ है। साढ़े तीन वर्ष में कई परिवर्तन देखने को मिले। 68500 और 69000 शिक्षक भर्ती की।  

सोशल डिस्टेंसिंग से छात्रों को पढ़ाने की बनाएं योजना

उन्होंने कहा कि पिछले 3.5 वर्ष से प्रदेश में छात्रों की संख्या 50 लाख से अधिक बढ़ी है। आज प्रदेश में 1.60 लाख स्कूलों में ज्यादातर बुनियादी सुविधाओं से लैस हैं। लाइब्रेरी व स्मार्ट क्लास चल रहे हैं। 100 दिनों के अंदर हर सरकारी स्कूल में शुद्ध पेयजल की व्यवस्था पाइपलाइन से करेंगे। ऑनलाइन शिक्षा से बहुत सारे परिवार नहीं जुड़ पा रहे। इसलिए गांव में कुछ बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कैसे पढ़ा सकते हैं, इस पर योजना बनानी चाहिए।

कार्यक्रम का संचालन अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार ने किया। कार्यक्रम में मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल, महानिदेशक विजय किरन आनंद, निदेशक सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह समेत कई अधिकारी मौजूद रहे।

Thursday, October 15, 2020

शिक्षामित्रों के भविष्य को सुरक्षित करने को लेकर लगातार कार्य जारी 69000 सहायक शिक्षक से पहले मिल सकती है खुशखबरी shikshamitra samayojan latest news hindi

 

शिक्षामित्रों के भविष्य को सुरक्षित करने को लेकर लगातार कार्य जारी 69000 सहायक शिक्षक से पहले मिल सकती है खुशखबरी shikshamitra samayojan latest news hindi

दोस्तों यह पोस्ट पढ़ने के बाद आप अपने सभी साथियों में जरूर शेयर करें ताकि उनको भी पता चले की आप सभी लोगों के भविष्य को लेकर संघ के अध्यक्ष व लोग चिंतित हैं


 देवरिया। उत्तर प्रदेश दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ की बैठक रविवार को सदर बीआरसी सभागार में हुई। इसमें संघ के प्रदेश सचिव फारूख अहमद खान ने कहा कि प्रदेश के शिक्षामित्र हताश व निराश न हो। जल्द ही दुख के बादल छंटने वाले हैं। यूपी सरकार शिक्षामित्रों को पुनःस्थाई करने की योजना बना रही है। दीपावली से पहले शिक्षामित्रों को उनका सम्मान वापस मिलने की उम्मीद है।


उन्होंने कहा कि शासन शिक्षामित्रों को लेकर अब गंभीर है। मुख्यमंत्री शिक्षामित्रों को कभी भी उपहार दे सकते हैं। जिले के बीएसए से मिलकर संगठन शिक्षामित्रों का जो भी बकाया है, उसके भुगतान की मांग करेगा।

दोस्तों यह पोस्ट पढ़ने के बाद आप अपने सभी साथियों में जरूर शेयर करें ताकि उनको भी पता चले की आप सभी लोगों के भविष्य को लेकर संघ के अध्यक्ष व लोग चिंतित हैं शासन ने बजट जारी कर दिया है। जिलाध्यक्ष जयप्रकाश यादव ने कहा कि शिक्षामित्रों को बकाया मानदेय न मिलने से उनकी आर्थिक स्थिति खराब हो गई है। संगठन विभाग से उनके बकाये के जल्द भुगतान की मांग करता है। इस दौरान संतोष गुप्ता, शक्ति सिंह, मनोज गुप्ता, कौशल किशोर, नागेंद्र, संतोष विश्वकर्मा, मकरध्वज, गेना, विचंडी यादव, मुकेश सिंह, अफजल इकसाद, पुनीत मिश्रा, रामसमुझ, विजय यादव, मनोज यादव, अखिलेश यादव, विजय गुप्ता, अमित सिंह आदि मौजूद रहे। संचालन मंडल अध्यक्ष कौशल किशोर यादव ने किया।दोस्तों यह पोस्ट पढ़ने के बाद आप अपने सभी साथियों में जरूर शेयर करें ताकि उनको भी पता चले की आप सभी लोगों के भविष्य को लेकर संघ के अध्यक्ष व लोग चिंतित हैं

यह है 69000 भर्ती का मामला

31,277 शिक्षकों की अनंतिम सूची में कम गुणांक वाले अभ्यर्थियों के चयन की जांच का आदेश


प्रयागराज : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 31,277 शिक्षकों की अनंतिम सूची पर सवाल उठ रहे हैं। राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग तक कम गुणांक वाले अभ्यर्थियों के चयन की शिकायत हुई है। आयोग ने बेसिक शिक्षा के अफसरों को पत्र भेजकर इसकी जांच का आदेश दिया है। तीन दिन में आरोपों की जांच करके कार्रवाई रिपोर्ट मांगी है।


परिषदीय स्कूलों की शिक्षक भर्ती की अनंतिम सूची में जगह न पाने वाले शिव शंकर व अन्य ने राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को पत्र भेजा कि 69,000 पदों में से 31,277 अभ्यर्थियों की सूची बेसिक शिक्षा विभाग ने जारी की है। इसमें उच्च गुणांक वाले कई अभ्यर्थी चयन सूची में नहीं है, जबकि कम गुणांक वालों को चयनित किया गया है। ऐसी ही कई शिकायतें हैं। राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग उपाध्यक्ष के निजी सचिव संदीप कुमार ने बेसिक शिक्षा की अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, विशेष सचिव व निदेशक बेसिक शिक्षा को पत्र भेजा है। बेसिक शिक्षा की अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार का कहना है कि यह भर्ती सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर कराई जा रही है।

Wednesday, October 14, 2020

शिक्षामित्रों के समायोजन पर एक बार फिर लगा ग्रहण देखते अगली रणनीति इस बार जीत पक्की shikshamitra samayojan latest news

शिक्षामित्रों के समायोजन पर एक बार फिर लगा ग्रहण देखते अगली रणनीति इस बार जीत पक्की shikshamitra samayojan latest news


31277 शिक्षक भर्ती के खिलाफ याचिका हाईकोर्ट में दाखिल, जानिए कारण


 

69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती में कम अंक वाले अभ्यर्थियों को चयनित करने और अधिक अंक वालों का चयन न करने को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई है।



याचिका में कहा गया है कि 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती में याचियों से कम अंक वालों को चयनित किया गया है जबकि याचियों ने अधिक अंक प्राप्त किए हैं लेकिन इसके बावजूद उनका चयन नहीं किया गया है। याचिका दाखिल करने वाले अधिवक्ता अग्निहोत्री कुमार त्रिपाठी का कहना है कि वह कोर्ट से याचिका पर जल्द सुनवाई का अनुरोध करेंगे।




इन्होने दाखिल की याचिका

परिषदीय स्कूलों में 31277 सहायक अध्यापक चयन की अनंतिम सूची जारी होते ही विवाद शुरू हो गया है। मीरजापुर जिले के याची संजय कुमार यादव ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है। आरोप है कि उनसे कम गुणांक के तीन अभ्यर्थी चयन सूची में हैं, जबकि उन्हें सूची से बाहर कर दिया गया है। याची के अधिवक्ता अग्निहोत्री कुमार त्रिपाठी ने बताया कि याचिका पर बुधवार को सुनवाई करने के लिए कोर्ट से अनुरोध करेंगे, क्योंकि भर्ती की काउंसिलिंग भी शुरू हो रही है।


Tuesday, October 13, 2020

भोला प्रसाद शुक्ला जी के केस के पहले आप यह जानकारी पूरी तरह से जरूर जान लें bhola shukla 1.24 lakh court update shikshamitra 1.24 news

भोला प्रसाद शुक्ल जी के केस के पहले आप यह जानकारी पूरी तरह से जरूर जान लें bhola shukla 1.24 lakh court update shikshamitra 1.24 news



प्रयागराज : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 69,000 सहायक अध्यापक चयन की अनंतिम सूची सोमवार को जारी हो गई। 31,277 अभ्यर्थियों को जिला आवंटित किया गया, जबकि अनुसूचित जनजाति की 384 सीटों के लिए अभ्यर्थी नहीं मिल सके। अभ्यर्थी सूची परिषद की वेबसाइट पर देख सकते हैं। सूची में शामिल अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र 16 अक्टूबर को दिया जाएगा।


परिषद सचिव प्रताप सिंह बघेल ने बताया कि पहले जारी 67,867 अनंतिम सूची से ही 31,661 पदों के लिए अभ्यर्थियों का जिला आवंटन किया गया है। अभ्यर्थी में 14 व 15 अक्टूबर को काउंसिंलिंग कराएंगे।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर 69000 शिक्षक भर्ती मामले में 31277 शिक्षकों की सूची जारी कर दी गई है। इन लोगों को 16 अक्तूबर को नियुक्ति पत्र मिलेगा। इस तरह नवरात्रि से पहले मुख्यमंत्री ने हजारों शिक्षकों को जो लंबे समय से अपनी नियुक्ति का इंतजार कर रहे थे, उन्हें बड़ा तोहफा दिया है। माध्यमिक शिक्षा विभाग भी 3,317 सहायक अध्यापकों को 16 अक्तूबर को ही नियुक्ति पत्र जारी करेगा। इस तरह देखा जाए तो 16 अक्तूबर को कुल 34,594 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र मिलेंगे।

उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल द्वारा वेबसाइट पर चयनितों की सूची जारी करने के साथ चयनित अभ्यर्थियों को संबंधित जिले में 14 एवं 15 अक्तूबर को काउंसलिंग के लिए बुलाया गया है। 16 अक्तूबर को नियुक्ति पत्र जारी कर दिए जाएंगे। वहीं, बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत शिक्षा मित्रों के लिए 37 हजार 339 पद रिक्त रखते हुए चयन सूची जारी की गई है। नियुक्ति सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधीन याचिकाओं के अधीन की जा रही है। बता दें कि शिक्षक भर्ती को लेकर कई विवाद रहे हैं जिसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी जिन पर फैसला होना है।


इससे पहले आवेदन में गलती करने वालों को कोर्ट ने दी थी राहत

69000 सहायक अध्यापक भर्ती में आवेदन में गलती करने वाले अभ्यर्थियों को राहत देते हुए हाईकोर्ट ने बेसिक शिक्षा परिषद को निर्देश दिया था कि अभ्यर्थियों के प्रत्यावेदन पर नियमानुसार निर्णय लिया जाए। आवेदन भरते समय त्रुटि करने वाले दर्जनों अभ्यर्थियों ने हाईकोर्ट में अलग-अलग याचिकाएं दाखिल की हैं। लक्ष्मी देवी व 16 अन्य तथा उषादेवी व अन्य आदि की याचिकाओं पर न्यायमूर्ति पंकज भाटिया ने सुनवाई की थी। 


याचीगण का पक्ष रख रहे अधिवक्ता सीमांत सिंह का कहना था कि याचीगण ने 69000 सहायक अध्यापक भर्ती के लिए आवेदन किया था। गलती से आवेदन के पहले कॉलम में उन्होंने अपनी प्रशिक्षण संबंधी योग्यता भर दी, जिससे उनका आवेदन स्वीकार नहीं किया जा रहा है।



बेसिक शिक्षा परिषद के अधिवक्ता का कहना था कि इस संबंध में स्पष्ट गाइड लाइन है कि आवेदन फार्म भरने में की गई त्रुटि को सुधारने का अवसर नहीं दिया जाएगा। यह अभ्यर्थी की जिम्मेदारी है कि वह आवेदन भरते समय सावधानी बरते और सही आवेदन भरे। याची के अधिवक्ता ने 16 जून 2020 को हाईकोर्ट द्वारा पारित एक आदेश का हवाला देते हुए कहा कि हाईकोर्ट ने पूर्व में याचीगणों का प्रत्यावेदन निस्तारित करने का निर्देश दिया है। इस पर कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को तीन सप्ताह में सक्षम प्राधिकारी के समक्ष प्रत्यावेदन देने और सक्षम प्राधिकारी को उस प्रत्यावेदन पर नियमानुसार निर्णय लेने का निर्देश दिया है।

 


चयन के बाद बीएसए कार्यालय में तत्काल ज्वाइनिंग

चयन प्रक्रिया जनपदीय चयन समिति द्वारा संपन्न कराई जाएगी। चयनित शिक्षकों को बीएसए कार्यालय में कार्यभार ग्रहण कराया जाएगा। विद्यालय का आवंटन बाद में किया जाएगा।



बेसिक शिक्षा में चयनित अभ्यर्थी

सामान्य श्रेणी : 15,933

अन्य पिछड़ा वर्ग : 8,513

एससी : 6,615

एसटी : 216

Sunday, October 11, 2020

भोला प्रसाद शुक्ला जी ने आखिरकार शिक्षामित्रों को उनकी जीत दिला ही दी shikshamitra 1.24 lakh court update

भोला प्रसाद शुक्ला जी ने आखिरकार शिक्षामित्रों को उनकी जीत दिला ही दी shikshamitra 1.24 lakh court update


एक बार फिर भोला शुक्ला के द्वारा 124 मैटर पर डाली गईं रिट याचिका आश्चर्यजनक तरीके से सुनवाई के लिए 12अक्टूवर को ट्रिपल बेंच में लग चुकी है.

*इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि 

👉अब की बार सिर्फ एमएचआरडी(शिक्षा मंत्रालय) को ही पार्टी बनाया गया है, जिसके अनुमति से ही 124000 शिक्षामित्रों को सेवारत बीटीसी प्रशिक्षण करवाया गया था और इस ट्रिपल बेंच में जस्टिस यूयू ललित जी स्वयं मौजूद रहेंगे,जैसा कि आप को ज्ञात होगा कि, इनके द्वारा हमारे पक्ष में 21 मई को ही एक आर्डर किया जा चुका है.

वर्तमान परिस्थिति में शिक्षामित्रों का मैटर दूसरी बार ट्रिपल बेंच में सुना जाना अपने आप में एक महत्वपूर्ण विषय हो गया है,

जो कि एक शुभ संकेत है

इसलिए आने वाला 12 अक्टूबर शिक्षामित्रों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन साबित हो सकता है.





Saturday, October 10, 2020

शिक्षामित्र मानदेय (माह सितम्बर 2020) की धनराशि जारी, PFMS पोर्टल से ही भुगतान करने का आदेश shikshamitra pfms maandey released

 शिक्षामित्र मानदेय (माह सितम्बर 2020) की धनराशि जारी, PFMS पोर्टल से ही भुगतान करने का आदेश






PFMS पोर्टल द्वारा अकाउंट में ₹1 की धनराशि प्रेषित करने की सूचना शिक्षामित्र इस लिंक को क्लिक करके, अपनी बैंक सेलेक्ट करके, अपना अकाउंट नंबर लिखकर, कैप्चा लिखकर आप सर्च करके विभाग द्वारा भेजे गए एक रुपए की धनराशि चेक कर सकते हैं।

PFMS पोर्टल द्वारा वेतन /मानदेय शिक्षामित्रों को अब दिया जाएगा कुछ जिलों में यह कार्यवाही हो चुकी है और कुछ में प्रक्रिया गतिमान है। इस कार्य हेतु PFMS पोर्टल द्वारा आपका चेक किया जाता है। 

पोर्टल आपके अकाउंट में ₹1 की धनराशि प्रेषित करेगा। शिक्षामित्र कृपया नीचे दिए जा रहे लिंक को क्लिक करके, अपनी बैंक सेलेक्ट करके, अपना अकाउंट नंबर लिखकर, कैप्चा लिखकर आप सर्च करके विभाग द्वारा भेजे गए एक रुपए की धनराशि चेक कर सकते हैं। कि धनराशि से आपके अकाउंट तक पहुंची है कि नहीं।

उक्त धनराशि आपके वेतन खाते में पहुंचने की जल्द ही विभाग के द्वारा जानकारी मांगी जाएगी कि यह धनराशि आपके खाते में पहुंच गई है अथवा नहीं।

यदि धनराशि पहुंच गई है तो इस खाते का वेरिफिकेशन हो जाएगा की पी एफ एम एस पोर्टल से भेजी गई धनराशि खातों में सही तरीके से प्रेषित हो रही है....

Thursday, October 8, 2020

PFMS पोर्टल द्वारा शिक्षामित्रों को मिला उनका बकाया मानदेय आप भी चेक कीजिए आपका मिला कि नहीं, इस बार उम्मीद से अधिक मिल सकता है shikshamitra pfms portal news

PFMS पोर्टल द्वारा अकाउंट में ₹1 की धनराशि प्रेषित करने की सूचना शिक्षामित्र इस लिंक को क्लिक करके, अपनी बैंक सेलेक्ट करके, अपना अकाउंट नंबर लिखकर, कैप्चा लिखकर आप सर्च करके विभाग द्वारा भेजे गए एक रुपए की धनराशि चेक कर सकते हैं।

PFMS पोर्टल द्वारा वेतन /मानदेय शिक्षामित्रों को अब दिया जाएगा कुछ जिलों में यह कार्यवाही हो चुकी है और कुछ में प्रक्रिया गतिमान है। इस कार्य हेतु PFMS पोर्टल द्वारा आपका चेक किया जाता है। 

पोर्टल आपके अकाउंट में ₹1 की धनराशि प्रेषित करेगा। शिक्षामित्र कृपया नीचे दिए जा रहे लिंक को क्लिक करके, अपनी बैंक सेलेक्ट करके, अपना अकाउंट नंबर लिखकर, कैप्चा लिखकर आप सर्च करके विभाग द्वारा भेजे गए एक रुपए की धनराशि चेक कर सकते हैं। कि धनराशि से आपके अकाउंट तक पहुंची है कि नहीं।

उक्त धनराशि आपके वेतन खाते में पहुंचने की जल्द ही विभाग के द्वारा जानकारी मांगी जाएगी कि यह धनराशि आपके खाते में पहुंच गई है अथवा नहीं।

यदि धनराशि पहुंच गई है तो इस खाते का वेरिफिकेशन हो जाएगा की पी एफ एम एस पोर्टल से भेजी गई धनराशि खातों में सही तरीके से प्रेषित हो रही है....




Tuesday, October 6, 2020

शिक्षामित्रों के मानदेय को लेकर एक और खबर सामने बढ़ोतरी भी हो सकती है, पूरी खबर जरूर देखें shikshamitra maandey good news

 शिक्षामित्रों के मानदेय को लेकर एक और खबर सामने बढ़ोतरी भी हो सकती है, पूरी खबर जरूर देखें shikshamitra maandey good news



चंदौली: प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ के लोगों ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट प्रशासनिक अधिकारी रामप्साद को सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा। शिक्षामित्रों ने कहा कि प्रदेश के प्राथमिक विद्यालय मे विगत 19 वर्षों से सेवा देते रहे हैं। शिक्षामित्रों की स्थिति न्यायालय स निर्णय आने के बाद बहुत दयनीय हो गई है। अब इतनी अल्प मानदेय में परिवार का भरण पोषण करना मुश्किल हो रहा है। भविष्य की चिंता को लेकर मन बहुत ही व्यथित एवं सशंकित रहता है।
इसी सदमे से प्रदेश भर में अब तक 3000 से अधिक शिक्षामित्र असामायिक व अवसाद के कारण अपने प्राण त्याग चुके हैं। यह सिलसिला अभी तक भी जारी है। अब शिक्षामित्रों को सरकार से उम्मीद है। कहा कि सरकार शिक्षामित्रों के हित का ध्यान रखते हुए सेवाकाल को 62 वर्ष तथा 12 माह करते हुए संवाद जनक वेतनमान प्रदान कर भविष्य सुरक्षित करें। कहां काफी परेशानी हो रही है। सरकार उनकी समस्याओं का समाधान कर सकती है। जिससे उनका कल्याण हो जाएगा। इस दौरान हेमंत मौर्य, रामप्रवेश यादव, राजेश शास्त्री, राजेश कुमार सिंह, रामकरण यादव, बृजेश मौर्य, आलोक गुप्ता, संतोष चौहान बाबूलाल गुप्ता ,बृज बिहारी, जयप्रकाश फैयाज उपस्थित रहे।

Sunday, October 4, 2020

शिक्षामित्रों की दिनेश शर्मा कमेटी की रिपोर्ट सार्वजनिक हुई जल्द होगा समस्या का निस्तारण डॉ दिनेश शर्मा shikshamitra high power committee report

 शिक्षामित्रों की दिनेश शर्मा कमेटी की रिपोर्ट सार्वजनिक हो » शिक्षामित्रों ने सीएम को संबंधित ज्ञापन सौंपा


बहराइच। शिक्षामित्र प्रदेश सरकार की उपेक्षा के शिकार है। दिनेश शर्मा कॉमेडी की रिपोर्ट को डेढ़ वर्ष बीतने के बाद भी अब तक जारी नहीं किया गया है। सरकार की इस उपेक्षा से त्रस्त शिक्षामित्रों ने शुक्रवार को प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन नगर मजिस्ट्रेट को सौंपा।


उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के प्रांतीय प्रवक्ता शिव श्याम मिश्र के निर्देश पर संगठन के जिला मीडिया प्रभारी दुर्गेश चन्द श्रीवास्तव व जिला प्रवक्ता अनवारूल रहमान खान के नेतृत्व में शुक्रवार को जिले के शिक्षा मित्र कलेक्ट्रेट परिसर में एकत्रित हुए प्रदर्शन के दौरान जिला मीडिया प्रभारी दुर्गेश चन्द श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश के प्राथमिक विद्यालय में विगत 19 वर्षों से सेवा देते आ रहे हैं शिक्षामित्रों की स्थिति माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय आने के बाद बहुत ही दयनीय हो गई है। 



इतने अल्प मानदेय में परिवार का भरण पोषण करना मुश्किल हो रहा है। भविष्य की चिंता को लेकर मन बहुत ही व्यथित एवं सशंकित रहता है। इसी सदमे से प्रदेश भर में अब तक लगभग 3000 से अधिक शिक्षामित्रों की असामयिक अवसाद के कारण मौत हो चुकी हैं। यह सिलसिला अभी भी जारी है। जिला प्रवक्ता अनवारुल रहमान खान ने सरकार से शिक्षामित्रों को नवजीवन प्रदान करने की मांग की। उन्होंने कहा कि 25 जुलाई 2018 को माननीय उप मुख्यमंत्री डा0 दिनेश शर्मा जी की अध्यक्षता में शीर्ष स्तर पर गठित हाई पावर कमेटी की रिपोर्ट से अवगत कराते हुए लागूSHIKSHAMITRA News: शिक्षामित्रों के मानदेय के लिए प्रशासनिक अधिकारी को सौंपा पत्रक, प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ के लोगों ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट प्रशासनिक अधिकारी रामप्साद को सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा


चंदौली: प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ के लोगों ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट प्रशासनिक अधिकारी रामप्साद को सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा। शिक्षामित्रों ने कहा कि प्रदेश के प्राथमिक विद्यालय मे विगत 19 वर्षों से सेवा देते रहे हैं। शिक्षामित्रों की स्थिति न्यायालय स निर्णय आने के बाद बहुत दयनीय हो गई है। अब इतनी अल्प मानदेय में परिवार का भरण पोषण करना मुश्किल हो रहा है। भविष्य की चिंता को लेकर मन बहुत ही व्यथित एवं सशंकित रहता है।


इसी सदमे से प्रदेश भर में अब तक 3000 से अधिक शिक्षामित्र असामायिक व अवसाद के कारण अपने प्राण त्याग चुके हैं। यह सिलसिला अभी तक भी जारी है। अब शिक्षामित्रों को सरकार से उम्मीद है। कहा कि सरकार शिक्षामित्रों के हित का ध्यान रखते हुए सेवाकाल को 62 वर्ष तथा 12 माह करते हुए संवाद जनक वेतनमान प्रदान कर भविष्य सुरक्षित करें। कहां काफी परेशानी हो रही है। सरकार उनकी समस्याओं का समाधान कर सकती है। जिससे उनका कल्याण हो जाएगा। इस दौरान हेमंत मौर्य, रामप्रवेश यादव, राजेश शास्त्री, राजेश कुमार सिंह, रामकरण यादव, बृजेश मौर्य, आलोक गुप्ता, संतोष चौहान बाबूलाल गुप्ता ,बृज बिहारी, जयप्रकाश फैयाज उपस्थित रहे। किया जाए।

Saturday, October 3, 2020

शिक्षामित्रों ने योगी सरकार से जल्द मांगा प्रशिक्षित वेतनमान और 62 साल की नौकरी shikshamitra today news hindi

शिक्षामित्रों ने उपवास रखकर मांगा प्रशिक्षित वेतनमान और 62 साल की नौकरी shikshamitra today news hindi


गांधी जयंती पर शिक्षामित्रों ने सेठ दामोदर स्वरूप पार्क में उपवास रखकर सिटी मजिस्ट्रेट को छह सूत्रीय ज्ञापन



सौंपा। जिलाध्यक्ष डॉ केपी सिंह और जिला महामंत्री कपिल यादव ने कहा कि नई शिक्षा नीति में शिक्षामित्रों का स्थायीकरण कर 62 साल 12 महीने सेवाकाल करते हुए प्रशिक्षित वेतनमान दिया जाए। जिला संगठन मंत्री कुमुद केशव पांडे ने कहा कि शिक्षामित्रों की स्थिति बहुत ही दयनीय हो गई है। विनीत चौबे, भगवान सिंह यादव, विजय चौहान, हेत सिंह यादव, आसिम हुसैन, फरजंद अली, राजेश गंगवार, सत्यम गंगवार आदि मौजूद रहे।


शिक्षामित्रों ने उपवास रखकर मांगा प्रशिक्षित वेतनमान और 62 साल की नौकरी


गांधी जयंती पर शिक्षामित्रों ने सेठ दामोदर स्वरूप पार्क में उपवास रखकर सिटी मजिस्ट्रेट को छह सूत्रीय ज्ञापन

सौंपा। जिलाध्यक्ष डॉ केपी सिंह और जिला महामंत्री कपिल यादव ने कहा कि नई शिक्षा नीति में शिक्षामित्रों का स्थायीकरण कर 62 साल 12 महीने सेवाकाल करते हुए प्रशिक्षित वेतनमान दिया जाए। जिला संगठन मंत्री कुमुद केशव पांडे ने कहा कि शिक्षामित्रों की स्थिति बहुत ही दयनीय हो गई है। विनीत चौबे, भगवान सिंह यादव, विजय चौहान, हेत सिंह यादव, आसिम हुसैन, फरजंद अली, राजेश गंगवार, सत्यम गंगवार आदि मौजूद रहे।

Thursday, October 1, 2020

मृतक के परिजनों को नौकरी शिक्षामित्रों को मिलेगा मुआवजा आज की बड़ी खबर shikshamitra samayojan latest news

 मृतक के परिजनों को नौकरी शिक्षामित्रों को मिलेगा मुआवजा आज की बड़ी खबर shikshamitra samay
ojan latest news


बेसिक शिक्षा विभाग में तृतीय श्रेणी के पदों पर नियुक्त होंगे मृतक आश्रित, 31,661 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को तेजी से पूरा करने का निर्देश


बेसिक शिक्षा विभाग में तृतीय श्रेणी के पदों पर नियुक्त होंगे मृतक आश्रित, जल्द जारी होगा शासनादेश


मंत्री ने इंटरमीडिएट पास आश्रितों को तृतीय श्रेणी के पद पर जल्द शासनादेश जारी करने के दिए निर्देश


परिषदीय स्कूलों में 31,661 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को तेजी से पूरा करने का निर्देश 


लखनऊ। बेसिक शिक्षा विभाग में मृतक आश्रितों को अब चतुर्थ श्रेणी की जगह तृतीय श्रेणी के पद पर नियुक्ति दी जाएगी। बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री ने नियुक्ति की प्रक्रिया में बदलाव करते हुए जल्द शासनादेश जारी करने के निर्देश दिए हैं। विभाग में अब तक किसी भी शिक्षक या कर्मचारी की मृत्यु होने पर उनके आश्रितों को चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के पद पर ही नियुक्ति दी जाती थी, जबकि दूसरे विभागों में नियुक्ति मिलती है।


 बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री ने विभाग में पूर्व की व्यवस्था में बदलाव करने को कहा था। इस संबंध में सचिवालय में बुधवार को हुई बैठक में सहमति के बाद उन्होंने जल्द ही शासनादेश जारी करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा उन्होंने अधिकारियों को 31,661 सहायक अध्यापकों की नियुक्ति प्रक्रिया जल्द पूरी करने और तय समय में शिक्षकों के अंतर्जनपदीय तबादले करने के निर्देश दिए हैं।


लखनऊ : बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ.सतीश चंद्र द्विवेदी ने बुधवार को विभाग के उच्चाधिकारियों संग बैठक कर परिषदीय स्कूलों में 31,661 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को तेजी से पूरा करने का निर्देश दिया। परिषदीय शिक्षकों के अंतर जिला तबादले और उनके पारस्परिक स्थानांतरण की प्रक्रिया को जल्दी पूरा करने को कहा।