शिक्षा नीति में अब प्री-प्राइमरी की पढ़ाई होगी जरूरी, उसके बाद ही प्राथमिक स्कूलों में मिल सकेगा दाखिला

नई शिक्षा नीति में अब प्री-प्राइमरी की पढ़ाई होगी जरूरी, उसके बाद ही प्राथमिक स्कूलों में मिल सकेगा दाखिला


नई शिक्षा नीति में स्कूली शिक्षा का जो नया पैटर्न तय किया गया है, उसमें हर बच्चे के लिए अब प्री- प्राइमरी की पढ़ाई जरूरी होगी। इसके बाद ही उसे प्राथमिक स्कूलों में दाखिला मिल सकेगा।




फिलहाल प्री-प्राइमरी की यह पढ़ाई आंगनबाड़ी और आदिवासी क्षेत्रों में आश्रमशालाओं के जरिये होगी। जो तीन साल की होगी। नीति में सभी आंगनबाड़ी को सशक्त बनाने का भी प्रस्ताव किया गया है। जिसमें उनका अपना खुद का एक बेहतर भवन होगा। साथ ही उनके कार्यकर्ताओं को बच्चों को पढ़ाने के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित भी किया जाएगा।


नई शिक्षा नीति में स्कूली शिक्षा सं प्री-प्राइमरी को इसलिए भा जोड़ने का प्रस्ताव किया गया है क्योंकि विशंषज्ञों का मानना है कि बच्चों के मस्तिष्क का 85 फीसद विकास छह वर्ष की अवस्था से पूर्व ही हो जाता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post