Ads Area

शिक्षामित्र साथियों ये पढ़कर आपके होश न उड़ जाए तो कहना shikshamitra latest

यह कोई खबर नहीं है बल्कि खबर से बढ़कर है 


वह जो शिक्षामित्र बंदा है किसी तरह बस जिंदा है|
नाम नौकरी वाला है पर खुद से ही शर्मिन्दा है||
किसी तरह बस जिंदा है........

उम्मीदों का बोझ ढो रहा मन ही मन में वो रो रहा|
देता दिलासा घर भर को पर आशंकित खुद हो रहा|
आशाओं के पंख लगाये उडता हुआ परिंदा है|
किसी तरह बस जिंदा है......

जब अल्प मानदेय पाता था सबके मन को भाता था|
लगन पूर्वक श्रम करता था सबको प्यारा लगता था|
मुख से कुछ न कहता था मन से शिक्षा देता था|
शोषण भी सहता था फिर भी मौन रहता था|
जब आया वक्त फल मिलने का तो हुआ समाज दरिंदा है| |
किसी तरह बस जिंदा है.......

भूल गये शायद वो मंजर जब तम अग्यान का छाया था|
चौपट थी शिक्षा व्यवस्था जब कोई सामने न आया था|
तब शिक्षामित्र ही सामने आया बन के गोविन्दा है|
पर आज किसी तरह बस जिंदा है.......

अब न्यायालय से आस जगी है order ki aas लगी है|
उम्मीदों को पर लगने लगे सपनों के पंछी उडने लगे|
 कृपा ईश की हो जाये हमको न्याय मिल जाये|
बस इसी आस में जिंदा है ....
बस इसी आस में जिंदा है......

Post a Comment

1 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. Kyo jhuthey news daltey hai es BJP sarkar me kuch nahi hone wala hai

    ReplyDelete

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area