1.24 लाख शिक्षामित्रों के मामले में आज हुई सुनवाई का सार, फाइनल सुनवाई 10 जनवरी

Uptet Latest News / 2 दिन पहले


1.24 लाख शिक्षामित्रों के मामले में आज हुई सुनवाई का सार, फाइनल सुनवाई 10 जनवरी
जैसा कि आप लोग आवत है सीनियर वकील केटीएस तुलसी आज सुनवाई के दौरान कोर्ट नंबर 6 में खड़े हुए तथा अपना पक्ष रखें उन्होंने कोर्ट में स्पष्ट किया की हमारे रिट भोला शुक्ला व आनंद कुमार रिट में सिमलरटी नहीं है शेष बातें आगे फिर नई अपडेट आने पर अगली संभावित तिथि 10 जनवरी 2020 होने की संभावना है


भोला शुक्ला
 अपग्रेड पैरा टीचर
उत्तर प्रदेश


*बिग ब्रेकिंग आज की सुनवाई का कोर्ट अपडेट*


प्रेप्रियाॅरिटी एवं अपग्रेडेशन जिसमें समस्त स्नातक व बीटीसी प्रशिक्षित शिक्षामित्र आते हैं, से सम्बन्धित केस की सुनवाई आज मा. सुप्रीम कोर्ट में कोर्ट नं. 6 में आइटम नं. 35 पर हुई। कोर्ट में मौजूद साथियों के अनुसार जब मैटर काल किया गया तो माननीय न्यायमूर्ति ने सभी पक्षों के अधिवक्ताओं की उपस्थिति के विषय में पूछा। जिसपर वादी व प्रतिवादी पक्ष के अधिवक्तागण व हम याचियों के अधिवक्ता श्री गौरव यादव जी ने अपनी उपस्थिति दर्ज करायी। फिर उसके बाद राज्य सरकार के अधिवक्ता ने कहा कि मैं उपस्थित हूँ और राज्य सरकार की तरफ से जवाब दाखिल कर दिया गया है। उसके बाद एम एच आर डी के वरिष्ठ अधिवक्ता ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए कहा कि हमने भी जवाब फाइल कर दिया है। इसके बाद यह प्रतीत होने लगा कि माननीय न्यायालय आज सुनवाई पूर्ण करते हुए निर्णय करने के पक्ष में है। इसी बीच भोला प्रसाद शुक्ला के वरिष्ठ अधिवक्ता श्री केटीएस तुलसी जी ने खड़े होकर केस की पिछली कार्यवाहियों को बताने लगे। जैसे कि यह कोर्ट इस केस को 3जुलाई को नोटिस किया है। इसमें सभी शिक्षामित्र आते हैं। और सभी अपग्रेडेशन चाहते हैं। मैं रिज्वाइंडर फाइल करना चाहता हूँ। यह सुनकर माननीय कोर्ट उन्हें रिज्वाइंडर के लिए समय देते हुए केस फाइल कोर्ट मास्टर को देने लगी। वरिष्ठ अधिवक्ता श्री तुलसी जी ने जाते जाते अन्त समय में कहाकि इसमें आई ए दाखिल हो रही है, उसे रोका जाय। इस पर माननीय न्यायमूर्ति ने नाराज होते हुए कहा कि, "I understand the case. I will decide and it will be make paradigm."
    और फिर केस की अगली तारीख 10जनवरी 2020 को लगकर केस की आज की सुनवाई सम्पन्न की गयी।
      साथियों कोर्ट में मौजूद साथियों की इस अपडेट की पुष्टि के लिए हमने याचियों की तरफ के अधिवक्ता श्री गौरव यादव जी को फोन कर अपडेट की पुष्टि करने का प्रयास किया, अधिवक्ता श्री गौरव यादव जी बहुत व्यस्त होने के कारण बहुत ज्यादा समय तो नहीं दे पाए किन्तु किसी बात से असहमत भी नहीं हुए और कहा कि इस पर कुछ घण्टे बाद विस्तृत जानकारी देंगे। साथियों गौरव यादव जी से विस्तृत जानकारी लेकर हम पुनः आप लोगों को पूरी जानकारी साझा करेंगे। परन्तु आज हुई इस केस की सुनवाई ने कुछ सवाल भी खड़े कर दिए हैं। जो मैं भोला शुक्ला जी से पूछना चाहता हूँ-

१. प्रथम यह कि भोला प्रसाद शुक्ला जी की तरफ से केस को देख रहे वरिष्ठ अधिवक्ता ने पिछली बार जब रिज्वाइंडर दाखिल करने हेतु माननीय कोर्ट से समय माँगा था और मा.कोर्ट ने उन्हें समय दिया भी था, तो आज पुनः वही काम करने के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता को खड़ा करना कहाँ की समझदारी थी?


दूसरा यह कि आप बार बार याचियों का विरोध क्यों कर रहे हैं? जबकि केन्द्र सरकार ने अपने जवाब में पेज नं. 18 पर यह लिखित हलफनामा दे चुकी है कि शिक्षामित्रों का वेतन बढ़ाया जाता है तो हमारे हिस्से में जो भी बजट आएगा उसे हम देने के लिए तैयार हैं।


तीसरा यह कि जब माननीय न्यायालय सभी याचियों को स्वीकार और सुन रही है तो आप याचियों का विरोध क्यों कर रहे हैं?


आप बार बार अपने निजी स्वार्थ को प्रदर्शित कर रहे हैं। और प्रदेश के भोले भाले शिक्षामित्रों को भटकाकर उन्हें उनका लाभ दिए जाने की बार बार खिलाफत कर रहे हैं। इसलिए शिक्षामित्रों को भटकाना बन्द करें। और लड़ाई को सही दिशा में ले जाने का प्रयास करें। धन्यवाद। राजीव कुमार गुप्ता।।

1 Comments

Post a comment

Previous Post Next Post