उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में भोला शुक्ला एवं आदर्श के संबंध में लगाए गए शपथ पत्र से यह पूरी तरह से स्पष्ट है कि भोला शुक्ला एंड आदर्स के द्वारा डाली गई याचिका पूरी तरह से व्यक्तिगत है 124000 एवं अपग्रेड पैरा टीचर्स शब्द से तथा शिक्षामित्रों की संख्या से कोई संबंध नहीं है । हमें स्पष्ट होता है कि यही कारण रहा कि आज तक सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिका को सार्वजनिक नहीं किया गया सुप्रीम कोर्ट के एक सीनियर अधिवक्ता के अनुसार ऐसी याचिकाओं पर जहां लाखों लोग उसके दायरे में आते हो एवं कुछ लोगों द्वारा ही याचिका दायर की गई हो आने वाले निकट भविष्य में सिर्फ ऐसी याचिकाओं पर 1% ही कुछ लाभ मिलने की संभावना है । साथ ही भोला शुक्ला एंड आदर्स की याचिका में आइ ए के माध्यम से सम्मलित होकर जो भी शिक्षामित्र साथी सुप्रीम कोर्ट में गए हैं हमको लग रहा है शायद उन्होंने भी प्रेयर को पढ़ा नहीं है सिर्फ यह सोच लिया है कि जो भोला शुक्ला को मिलेगा वह हमको भी मिल सकता है ।



अन्यथा वह भी अपग्रेड पैरा टीचर्स का राग नहीं अलाप रहे होते । NCTE के लीगल सेल के अनुसार SLP (C) No. 014621/2019 में हमारा कोई रोल नहीं है यह राज्य से संबंधित है । इसलिए एक आप सभी से अनुरोध है कि गुमराह न हों । धन्यवाद ! *कौशल कुमार सिंह* *प्रदेश मंत्री* *उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र ।*

Post a Comment

Previous Post Next Post